Roohi Movie | 480p | 720p | 1080p | Bollywood movie 2021


 Roohi Movie | 480p | 720p | 1080p | Bollywood movie 2021

Story - 

 दो छोटे शहर के लड़के - भौरा पाण्डेय  और कत्तानी कुरैशी रूही के साथ अजीब परिस्थितियों में फँस जाते हैं | वो साधारण लगती है पर जल्द ही उन्हें ये एहसास होता है कि उसके पर्सनालिटी का एक और साइड है - उसकी घोस्ट पर्सनालिटी जिसका नाम अफजा है | भौरा उसके लिए भावनाए निर्मित करने लगता है , और साथ ही कत्तानी अफज़ा को पसंद करने लगता है | एक अजीब रोमांस इन तीनो के बीच पनपने लगता है | भौरा अफज़ा से निजात पाना चाहता है , जबकि कत्तानी चाहता है कि वो बची रहे | इस प्रॉब्लम का सलूशन निकालने कि कोसिस उन्हें अजीब लेकिन कॉमिक  परिस्थितियों में ले जाता है, जहाँ उनका सामना अजीब किरदारों से होता है | आगे क्या होता है यही कहानी का क्रक्स है |

Review - 

कई सालों से बॉलीवुड ने हॉरर-कॉमेडी को मौका नहीं दिया था | पर अब लगता है कि इस केटेगरी ने फिल्म्मकेर्स को अपनी तरफ मोड़ा है | डायरेक्टर हार्दिक मेहता रूही मूवी में दो शैलियों को मिलाने कि कोशिस की है , जो कि एक हद तक सफल भी हुई है | इस फिल में तीन एक्टर्स जो प्लाट के सेंटर में हैं - राजकुमार , वरुण, जान्हवी - अच्छे फॉर्म में हैं , और एक दुसरे कि पेर्फोर्मंसस को पूरा करते हैं | राजकुमार का किरदार उनके स्त्री मूवी के किरदार से थोडा मिलता जुलता है , फिर भी उन्होंने इस किरदार को अलग रखने के लिए मैनर्स और बॉडी लैंग्वेज में कुछ परिवर्तन किये हैं | वरुण अपनी अच्छी  कॉमिक टाइमिंग और परफेक्ट एक्सप्रेशंस के साथ उभर कर सामने आते हैं | वे कुछ पार्ट्स को बहुत आसानी से कर जाते हैं | जाह्नवी , रूही और अफज़ा दोनों ही किरदारों के साथ जस्टिस करती हुई लगती हैं | 

कुछ हिस्सों में आइकोनिक मूवीज के कुछ सीन्स को कॉमिक तरीके से प्रस्तुत किया गया है | जैसे कि टाइटैनिक मूवी में रोज का जैक को मरने के लिए छोड़ देना और ddlj का पलट वाला scene | यह फिल्म जो म्रिघ्दीप सिंह लम्बा के द्वारा लिखी गयी है , बहुत से oneliners को सहजता से प्रस्तुत करती है | 

फिल्म अगर कुछ लैक करती है तो वो है एक गहरा नैरेटिव | किरदारों कि पीछे कि स्टोरी को दिखाया गया है पर उसका बहुत कम हिस्सा ही  ध्यान में रह पाता है | एक अच्छी एडिट के साथ इस फिल्म को दो घंटों में सिम्ताया जा सकता है | मनोरंजन के अलावा यह फिल्म सेल्फ लव और सेल्फ बिलीफ के कांसेप्ट  को प्रमोट करती है | कहानी के अंत में ऐसे punches कि कमी महसूस होती है जो शुरू से मिलता रहा है |दो मैं ट्रैक्स - नदियों पार और पनघट - जो कि ओपनिंग और क्लोजिंग क्रेडिट्स के साथ चलते हैं , वे सचिन - जिगर के द्वारा निर्मित हैं , और मूवी ख़त्म होने के बाद भी आपके साथ रहते हैं |

कुल मिलकर बात कि जाये  तो मूवी एक अच्छी एंटरटेनमेंट साबित होती है |


Rating : 3.5


Direction - 3.5/5
Dialogues - 3.5/5
Screen play - 3/5
Music - 3/5
Visual Appeal - 3.5/5


0 टिप्पणियां